“स्वयंसंगिरथी

इस

संग्रह के शब्दों को मैं अपने

देश “भारत” को समर्पित करता

हूँ। और इनमें जो शब्द हैं ओ

मेरी भावना व्यक्त करते हैं

कि मेरी सोच खुद के प्रति क्या

है। इसलिये इस शब्दक्रम संग्रह

का नाम “स्वमसंगिरथी” रखा

है।अगर

मेरी वाक्य रचनायें में त्रुटि

हो तो हमें क्षमा प्रदान करें।


विनीतराम

रंजन कुमार