शब्द संग्रह:-०५

किस क्षण के लिये? दिये प्राण हैं ।

कर ज्योति सम्मान ।

कर प्रकाश से जागृत,

तु नव भारत निर्माण !

भारत की भू पे जन्म लेके।

भूमण्डल का शुद्ध कण लेके।

नर धर्म यदि हम धर लेते,

कुछ कर्म यदि हम कर लेते?


इतिहाश समर हम कर लेते!

साम्राज्य समर हम कर लेते।

महाराज्य स्थापित करके उनका?

हम राज्य स्थापित कर लेते!


विनीत

राम रंजन कुमार